Shri Prannath Gyanpeeth-     मासिक पत्रिका आर्थिक सेवा सम्पर्क करें
                                                                 




मुख्य संस्था अध्यात्म निजानन्द दर्शन विजयाभिनन्द बुद्ध ब्रह्मवाणी (तारतम) चितवनि महान व्यक्तित्व साहित्य प्रवचनमाला सुन्दरसाथ
  संस्था
     संस्थापक 
     उद्देश्य 
     स्थिति एवं दिव्य वातावरण 
     कार्यशैली
     संसाधन » 
          निर्मित भवन 
          ज्ञानपीठ में प्रेस की स्थापना
          प्रस्तावित भवन 
          भावी योजनाएँ 
     प्रगति »
          शिक्षा 
          कक्षा के चित्र 
     ज्ञानपीठ की शाखाएं 
 
 
 
 
  संस्था  »  ज्ञानपीठ की शाखाएं

श्री प्राणनाथ ज्ञानपीठ (सरसावा) की शाखाएं

ज्ञानपीठ द्वारा विभिन्न प्रान्तों में "श्री प्राणनाथ ज्ञान केन्द्र" के नाम से शाखाएं खोली जा रही हैं । इन केन्द्रों की विशेषता यह है कि वहां ध्यान मन्दिर (चितवनी करने के लिए बड़ा कक्ष), ज्ञान मन्दिर (पुस्तकालय), प्रवचन भवन व आयुर्वेदिक औषधालय की स्थापना की जाएगी । इनके निकट रहने वाले सुन्दरसाथ व श्रद्धालुजन नियमित रूप से वहां पर इकट्ठा होकर हर प्रकार का आध्यात्मिक लाभ ले सकेंगे ।

श्री प्राणनाथ ज्ञान केन्द्र, वडोदरा (गुजरात)

वदोदरा शहर के बीच स्थित इस केन्द्र की स्थापना मन्दिर के रूप में वर्ष २००४ में हुई । यह ज्ञानपीठ की पहली शाखा है, जिसकी स्थापना ज्ञानपीठ से भी एक वर्ष पहले हो गई थी । बाद में आत्म-जाग्रति महिला मण्डल के प्रयासों से इसे ज्ञान केन्द्र में परिवर्तित कर दिया गया ।

श्री प्राणनाथ ज्ञान केन्द्र, पन्ना (म.प्र.)

ज्ञानपीठ द्वारा पन्ना में गुम्मट मन्दिर से कुछ दूर वर्ष २०१७ में जमीन खरीदी गई है । इस भूमि पर ज्ञान केन्द्र का निर्माण चल रहा है, जहां सुन्दरसाथ के आवास की भी व्यवस्था की जाएगी ।

श्री प्राणनाथ ज्ञान केन्द्र, खरेड़ी, दाहोद (गुजरात)

श्री प्राणनाथ ज्ञान केन्द्र, खरोड़ी, दाहोद श्री प्राणनाथ ज्ञान केन्द्र के नाम से ज्ञानपीठ की पहली शाखा वर्ष २०१२ में खरेड़ी में स्थापित हुई । सर्वप्रथम यहां एक विशाल प्रवचन भवन का निर्माण पूरा किया गया, जिसमें लगभग चार हजार लोग एकसाथ बैठकर ज्ञान चर्चा सुन सकते हैं । भविष्य में ध्यान मन्दिर व ज्ञान मन्दिर की स्थापना की योजना है । अभी इस प्रवचन भवन में प्रति माह हजारों सुन्दरसाथ एकट्ठा होकर आध्यात्मिक ज्ञान चर्चा का लाभ लेते हैं ।

श्री प्राणनाथ ज्ञान केन्द्र, उमरिया फलिया, दाहोद (गुजरात)

अप्रैल २०१३ में इस केन्द्र का शुभारम्भ श्री राजन स्वामी के द्वारा किया गया है । अभी यहां प्रवचन व स्वाध्याय के लिए एक छोटा सा भवन है, परन्तु भविष्य में योजनानुसार ध्यान मन्दिर व ज्ञान मन्दिर बनाया जाएगा ।

श्री प्राणनाथ ज्ञान केन्द्र, पिपरियाखेड़ा, गुना (म.प्र.)

पिपरियाखेड़ा में भी खरेड़ी जैसे प्रवचन भवन का निर्माण किया गया है ।

 

प्रस्तुतकर्ता- ज्ञानपीठ छात्र समूह  
   सर्वाधिकार सुरक्षित © श्री प्राणनाथ ज्ञानपीठ सरसावा